Lekhpal Kaise Bane

Lekhpal (लेखपाल) कैसे बने – जानिए सारी योग्यताएं

वर्तमान समय में  प्रतिस्पर्धा निरंतर बढ़ती जा रही है, इस प्रतिस्पर्धा युग में  सभी छात्र अपने करियर को बेहतर बनानें हेतु लगन के साथ अत्यधिक परिश्रम करते है, सभी छात्रों की रूचि अलग-अलग क्षेत्रो में होती है, परन्तु सबसे पहले छात्र सरकारी नौकरी प्राप्त करने का प्रयास करते है, समय-समय पर विभिन्न विभागों द्वारा नियुक्तियां निर्गत की जाती है, सरकारी नौकरियों में राजस्व विभाग के अंतर्गत एक लेखपाल पद है, अनेक विद्यार्थी लेखपाल बनना चाहते है, क्योंकि यह पद एक सम्मानित पद है, यदि आप भी इस सम्मानित पद को प्राप्त करना चाहते है, तो इससे सम्बंधित योग्यता, आयु, परीक्षा प्रक्रिया आदि सभी प्रकार की जानकारी प्राप्त करना आवश्यक है, इसके बारें में आप को इस पेज पर विस्तार से बता रहे है |

UP-Lekhpal-news

लेखपाल कैसे बनें

लेखपाल पद राजस्व विभाग के अंतर्गत आता है, पूर्व में लेखपाल को पटवारी कहा जाता था,  दोनों एक ही पद के नाम हैं, अलग –अलग राज्यों में इसे पटवारी, पटेल, कारनाम अधिकारी, शानबोगरु आदि नामों से जाना जाता है, लेखपाल के अंतर्गत चकबंदी लेखपाल और राजस्व लेखपाल दो पद आते है, लेखपाल बननें के लिए अभ्यर्थी को लिखित परीक्षा उत्तीर्ण करना अनिवार्य है, वर्तमान में साक्षात्कार को समाप्त कर दिया गया है |

शैक्षिक योग्यता   

लेखपाल बननें हेतु अभ्यर्थी को मान्यता प्राप्त विद्यालय से बारहवीं उत्तीर्ण होना अनिवार्य है |

अतिरिक्त योग्यता

नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इन्फोर्मेशन टेक्नोलॉजी (NIELIT) से मान्यता प्राप्त सीसीसी सर्टिफिकेट होना अनिवार्य है,  उत्तर प्रदेश राज्य सरकार ने कंप्यूटर में उच्च योग्यता रखने वाले सभी अभ्यर्थियों के आवेदन पत्र स्वीकार करनें का निर्देश दिया है, जिन्होंने कंप्यूटर में पीजीडीसीए, बीसीए, एमसीए, बीए, बीएससी, बीटेक, एमएससी, एमबीए में कंप्यूटर एक विषय के रूप में या एक सेमेस्टर में कंप्यूटर कोर्स किया हो |

आयु मापदंड

इस पद हेतु अभ्यर्थी की आयु 18 वर्ष से 40 वर्ष के मध्य होना आवश्यक है, आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को नियमानुसार OBC को 3 वर्ष और SC /ST अधिकतम 5 वर्ष की छूट प्रदान की जाएगी |

लेखपाल बननें हेतु परीक्षा  

उत्तर प्रदेश सरकार नें राज्य में समूह ‘ग’ के लिए साक्षात्कार को समाप्त कर दिया है, वर्तमान में लेखपाल के पदों पर नियुक्तियां सिर्फ लिखित परीक्षा लिखित परीक्षा के आधार पर की जाएँगी, इस परीक्षा में आमतौर पर सामान्य ज्ञान, हिंदी, सामान्य गणित और सामाजिक जीवन से सम्बंधित प्रश्न पूछे जायेंगे |

परीक्षा पैटर्न (Examination Pattern)

भाग  विषय प्रश्न स० अंक
A सामान्य हिंदी 25 20
B गणित 25 20
C सामान्य ज्ञान 25 20
D ग्रामीण समाज और ग्रामीण विकास 25 20
योग 100 80

 

परीक्षा हेतु समय

आयोग द्वारा इस परीक्षा के लिए 90 मिनट अर्थात 1 घंटे 30 मिनट निर्धारित किया गया है, अभ्यर्थियों को 90 मिनटों में 80 प्रश्नों को हल करना होगा |

उत्तर प्रदेश लेखपाल पाठ्यक्रम

उत्तर प्रदेश लेखपाल भर्ती का पाठ्यक्रम इस प्रकार है-

सामान्य हिंदी  

व्याकरण शब्दावली
शब्दों का प्रयोग रस
अलंकार समास
पर्यायवाची विलोम
तत्सम एवं तदभव वाक्यांशों के लिए शब्द निर्माण
लोकोक्तियाँ एवं मुहावरे वर्तनी
वाक्य संशोधन सन्धियां
लिंग वचन
कारक त्रुटि से सम्बंधित अनेकार्थी शब्द

 

गणित

संख्या प्रणाली प्रतिशत
लाभ हानि केंद्रीय माप
मध्यम और मोड एलसीएम
एचसीएफ फैक्टर (Factors)
क्षेत्र प्रमेय त्रिभुज
वर्ग पैरामीटर
सर्कल का क्षेत्रफल तालिका बनाना
आवृत्ति वितरण सांख्यिकी

 

सामान्य ज्ञान

सामान्य विज्ञान, विश्व भूगोल और जनसंख्या, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व के वर्तमान मामलों, स्वतंत्रता आंदोलन, भारतीय इतिहास, भारतीय राजनीति और अर्थशास्त्र, विशेष रूप से सामान्य विज्ञान के परिप्रेक्ष्य से दैनिक जीवन में होने वाली घटनाओं से प्रश्न ।
भारतीय इतिहास- वित्तीय, सामाजिक, धार्मिक और राजनीतिक दलों के ज्ञान को जांचा जायेगा, भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन की प्रकृति और विशेषता के बारे में भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के तहत, राष्ट्रवाद का उदय और हमारे द्वारा किस प्रकार की स्वतंत्रता की आशा की जा रही है |

 

ग्रामीण समाज और ग्रामीण विकास

ग्राम समाज और विकास: ग्राम विकास कार्यक्रम और प्रबंधन, ग्राम विकास भारत का सम्मान, ग्राम विकास अनुसंधान, ग्राम स्वास्थ्य योजनाएं, ग्राम समाज, विकास, ग्राम विकास और भूमि सुधार |

 

ग्राम विकास के लिए महत्वपूर्ण योजना

1. आदर्श ग्राम योजना |
2. सहकारी विकास योजना |
3. सूखा विकास कार्यक्रम |
4. एमजीएनआरईजीए |
5. जवाहर ग्राम समृद्धि योजना |
6. अन्नपुर्ण योजना |
7. अंत्योदय अन्ना योजना |
8. स्वाज धार्य योजना |
9. राजीव गांधी गांव विद्युतीकरण योजना |
10. कस्तूरबा गांधी शिक्षा योजना |
11. मिड डे मील प्रोग्राम |
12. एनआरएलएम |
13. इंदिरा आवास योजना |
14. प्रधान मंत्री ग्राम सड़क योजना |
15. संसद आदर्श ग्राम योजना, आईडब्ल्यूएमपी आदि |

 

ग्राम विकास के लिए सरकारी योजनाएं

1. किसान पेंशन योजना |
2. किसान रथ योजना |
3. अम्बेडकर ऊर्जा कृषि सुधारीकरण योजना |
4. आम आदमी बीमा योजना |
5. संजीवनी परिवार योजना |
6. आदर्श नगर योजना |
7. वंदे मातरम् योजना |
8. प्रियदर्शिनी योजना |
9. शुद्ध पेयजल योजना (वर्तमान यूपी गवर्नमेंट द्वारा संचालित) |
10. पेंशन योजना (वर्तमान यूपी गवर्नमेंट द्वारा चलाएं) |
11. प्रधानमंत्री आवास योजना (वर्तमान यूपी  गवर्नमेंट द्वारा संचालित) |
12. कन्या विद्या धन योजना (वर्तमान यूपी गवर्नमेंट द्वारा संचालित) |

लेखपाल के कार्य

1.भूमि का आवंटन करना तथा कब्ज़ा दिलाना लेखपाल का मुख्य कार्य है ।

2.आपदाओ के दौरान आपदा प्रबंधन अभियानों में सक्रिय रूप से सम्मिलित होना ।

3.कृषक दुर्घटना बीमा, विधवा, वृद्धवस्था, विकलांग पेंशन तथा आय, निवास एवं जाति प्रमाण पत्रों को बनवानें में आवेदक का सहयोग करना ।

4.कृषि गणना, पशु गणना तथा अन्य आर्थिक सर्वेक्षण में सहयोग देना ।

5.राजस्व अभिलेखों को अपडेट रखना ।

  1. राष्ट्रिय कार्यक्रमों में सहयोग करना ।

लेखपाल का वेतन

लेखपालों का नया वेतन 21742 रुपए निर्धारित किया गया है, फार्मूले के अनुसार मूल वेतन में 2.75 का गुणा करने पर 21742 रुपए वेतन होता है, इसलिए दूसरे स्लैब का वेतन 22,400 नया वेतन हो जायेगा |

लेखपाल परीक्षा पास करनें हेतु महत्वपूर्ण टिप्स  

पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों को हल करना

पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों को हल करनें से आपको परीक्षा में आने वाले संभावित प्रश्नों जानकारी प्राप्त होगी, क्योंकि परीक्षा में अधिकतर वही प्रश्न पूछें जाते है, जो पहले परीक्षा में आ चुके है, इसलिए यदि आप इसको सही से हल कर लेते है, तो आपकी संभावित 20 से 30 प्रतिशत तैयारी हो जाती है, आपको लगभग 10 वर्षो  के प्रश्न पत्र को हल करना चाहिए |

समय सारणी का प्रयोग

परीक्षा की तैयारी में आपको एक समय सारणी बनानी चाहिए और आपको उसी के अनुसार अपनी तैयारी करनी चाहिए, तैयारी करने में कभी भी बीच में अनुपस्थित न रहे, जिससे आपको समय की हानि होगी, समय सारणी का निर्माण करते समय प्रत्येक विषय के लिए पर्याप्त समय देना चाहिए |

अनुशासन

किसी भ मार्ग में सफलता प्राप्त करने हेतु अनुशासन का महत्वपूर्ण योगदान होता है, अनुशासन को ही सफलता की सीढ़ी कहा जाता है, जिस पर चल कर आप अपनें लक्ष्य को प्राप्त कर सकते है |

ग्रुप डिस्कशन

ग्रुप डिस्कशन में पढ़ाई करने से आपको दो प्रकार के लाभ प्राप्त होते है, पहला लाभ – आप ग्रुप डिस्कशन के माध्यम से किसी कठिन टॉपिक को भी आसानी से समझ सकते है और दूसरा यह कि आपका कॉन्फिडेंस लेवल में वृद्धि होगी, परन्तु ध्यान रखे कि ग्रुप डिस्कशन में सिर्फ तैयारी के विषय में ही चर्चा करे |

लक्ष्य निर्धारण

तैयारी करने में लक्ष्य का निर्धारण करना बहुत ही आवश्यक है, उसी से आपको सफलता प्राप्त करने में सहायता होगी, लक्ष्य के बिना आप सही दिशा में तैयारी नहीं कर पाएंगे, इसलिए लक्ष्य का निर्धारण करना अतिआवश्यक है |

अपनी तैयारी का आकलन करना

आप द्वारा की गयी तैयारी का बीच-बीच में आंकलन करना भी आवश्यक है, आप मॉक टेस्ट देकर अपनी परीक्षा की तैयारी की जाँच कर सकते है, इससे आपको अपनी कमी की जानकारी प्राप्त होगी, जिससे आप उसमे सुधार कर सकते है, प्रत्येक सप्ताह के अंत में आपको एक मॉक टेस्ट में भाग लेना चाहिए |

 

Advertisements